Categories
Uncategorized

Information About Peacock in Hindi Language (with Points)

Information About Peacock in Hindi Language (with Points) | अगर आप Information About Peacock in Hindi Language (with Points) धुंध रहे है तो आप सही जगह पर आये है.

दोस्तों हमारी वेबसाइट पे आपका स्वागत है और आप जिस चीज के लिए इस वेबसाइट पे आये है उसकी पूरी डिटेल में जानकारी आपको इस पोस्ट में मिलेगी और आपको इस पोस्ट को पढ़ने के बाद दूसरी बार यह टॉपिक सर्च करना नहीं पड़ेगा और नहीं दूसरी कोई वेबसाइट पे जाना पड़ेगा क्युकी,

हमने इस पोस्ट में आपके लिए बेस्ट रिजल्ट प्रोवाइड किया है जिसे पढ़के आपके सरे क्वेश्चन दूर हो जायेंगे और आप बहोत ही आसानी से समझ सकेंगे तो आपसे हमारा यह अनुग्रह है की इस पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़े.

Information About Peacock in Hindi Language (with Points)

Information About Peacock in Hindi Language (with Points)

  • मोर, भारत का ‘राष्ट्रीय पक्षी’ है.
  • मोर, भारत के लगभग सभी हिस्सों में पाया जाता है.
  • मोर की आवाज़ बहुत प्यारी नहीं होती है.
  • 26 जनवरी 1963 को भारत सरकार के द्वारा मोर को राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया.
  • भारत के अलावा ‘म्यांमार’ का राष्ट्रीय पक्षी मोर ही है.
  • मोर 20 वर्ष की आयु तक जीवित रह सकते है.
  • मोर के सिर पर मुकुट जैसी एक सुन्दर सी कलगी होती है.
  • मोर बहोत ही शांत और शर्मीले किस्म का पक्षी होता है.
  • मयूर नृत्य, एक प्रसिद्ध नृत्य है, मयूर नृत्य समूह में किया जाता है.
  • मोर (पुरुष पक्षी), मोरनी (स्त्री पक्षी) की तुलना में अधिक सुन्दर, रंगीन और उज्जवल होता है.
  • मोर बड़े पंखो वाला बहोत बड़ा पक्षी है, लेकिन वह बहुत अधिक ऊँचा या लम्बी दुरी तक उड़ नहीं सकता.
  • मोर जुंड़ो में रहना पसंद करते है एक झुंड में 6 से 10 तक मोर होते है.
  • मोर, जब नृत्य करता है तो उस समय अपने पंख फैला लेता है. ऐसे समय वह अत्यंत सुन्दर दिखाय पड़ता है.
  • मोर सर्वभक्षक है और कीड़े, फूल, बीज, छोटे कृन्तको और छिपकलियों को खाता है. यह हानिकारक कीड़े-मकोड़े खाता है, इसलिए इसे किसानो का अच्छा मित्र कहा जाता है.
  • भारत में, मोर के शिकार पर पूर्णतया प्रतिबन्ध है. यह भारतीय वन्यजीव (सरक्षण) अधिनियम 1972, के तहत पूरी तरह से सरक्षित है.
  • हिन्दू समाज में मोर का धार्मिक महत्व भी है. भगवन शिव के पुत्र कार्तिकेय की सवारी मोर है.
  • मोर के पंख का उपयोग पर्स, जैकेट, और कई खूबसूरत चीजों को बनाने के लिए किया जाता है.
  • ऐसा कहा जाता है की मोर जब अपने पेरो को देखता है तो वोह रोने लगता है क्युकी उसका पर ही उसके शरीर का सबसे बदसूरत हिस्सा है.
  • मोर हमेशा इंसानो से दूर रहना पसंद करता है.
  • मोर की आवाज़ को 2 किलोमीटर तक सुना जा सकता है.
  • मोर पक्षियों में सबसे बड़ा पक्षी है.
  • मोर प्राकृतिक आपदा आने के पहले सही जोर जोर से आवाज़ करके उसके बारे में लोगो को चेतना देता है.
  • मोर बारिश के मौसम में बहोत ही खुश होता है.
  • मोर के कानो की सुनने की क्षमता बहोत ही ज्यादा होती है.
  • मोर किसीभी मौसम और वातावरण में अपने आप को ढाल सकता है, इसलिए बर्फीली और पहाड़ी जगहों मेभी यह सहजता से अपना जीवन व्यतीत कर सकता है.
  • मोर के शरीर पर से ज्यादा पंख होते है.
  • मोर के पंख खोखले होते है और पहले के ज़माने में इसका उपयोग लिखने के लिए किया जाता था.
  • मोर के पंख हर साल नए आते है.
  • मोर के पंखो से जड़ी बुटिया भी बनायीं जाती है.
  • मोर हमारे भारत देश की आन, बान और शान है और दिन बा दिन इसकी संख्या में कमी आ रही है.

Essay on Peacock in Hindi

मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है.यह पक्षी अपनी सुंदरता के लिए प्रशिद्ध है.इसे सौन्दर्यता का प्रतिक मन जाता है.मोर को कार्तिकेय का वहां मन जाता है.

मोर चमकीले हरे और नील रंग का होता है. उसकी गर्दन लम्बी तथा नील रंग की होती है. उसके पंख भी लम्बे होते है.मोर के हर पंख पर चाँद जैसी आकृति बानी होती है. यह आकृति हरे, नील और सुनहरे रंगो की छटाओंसे बानी होती है. मोर के सर पर ताज जैसी कलगी होती है.

बरसात के मौसम में मोर अपने पंख फैला कर नाचता है, यह दृश्य देखने लायक होता है. मोर फल, अनाज, किट, साप आदि खता है और जंगल में पेड़ो पर रहता है.

कभी कभी मोरो को पला जाता है कर बगीचों में रखा जाता है. मोर पंखो को सजावट के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

यह भी पढ़े :

वीडियो देखे :

फ्रेंड्स हम आशा करते है आपको हमारी यह पोस्ट Information About Peacock in Hindi Language (with Points) पसंद आयी होगी और आपको हमरी यह पोस्ट पसंद आयी है तो इसे अपने फ्रेंड्स एंड फॅमिली मेंबर के साथ सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सअ, फेसबुक, etc पे शेयर करना न भूले .

ताकि हम अच्छी से अच्छी पोस्ट आपको प्रोवाइड कर सके और हमारा मोटिवेशन भी बना रहे. और हमें सोशल मीडिया पे फॉलो करना न भूले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *